सुदीप सोहनी

युवा साहित्यकर्मी

 

जीवन के गहरे अर्थों की कविता रचता किअरोस्तामी का सिनेमा

21 January 2017

(अब्बास किअरोस्तामी ईरान और विश्व सिनेमा के प्रमुख निर्देशकों में से थे। बीती 4 जुलाई को पेरिस में उनका निधन हो गया। उन्हीं पर पर सुदीप सोहनी द्वारा श्रधांजलि स्वरुप लेख) पुणे स्थित भारतीय फ़िल्म और टेलीविज़न संस्थान की एक ख़ासियत है ...

‘एंजेल’ नाम की शख़्सियत और मुस्कान: एंजेलिना जोली

14 November 2016

एंजेलिना जोली सिनेमा का विश्वव्यापी चेहरा हैं। अगर इसमें किसी को कोई शक है तो हो सकता है। चलिये माना, पर अगर हॉलीवुड के कई शहरों, कई दिनों, महीनों, सालों, और हज़ारों कि.मी. की दूरी तथा जीवन-सपने-ब्रह्मांड-सोच से दूर केवल ...

पी. के. नायर: अलविदा ‘सेल्यूलॉईड मैन’

14 May 2016

(भारतीय सिनेमा के पितामह पी. के. नायर के निधन पर सुदीप सोहनी द्वारा श्रधांजलि स्वरुप लेख) गत 4 मार्च को भारतीय सिनेमा के पितामह पी. के. नायर का निधन हो गया। कुछ सालों पहले शिवेंद्र सिंह डुंगरपुर की फिल्म ‘सैल्यूलॉइड मैन’ ...

सिनेमा में साहित्य की तरह बर्ताव करते ऑरसन वेल्ज़

20 November 2016

(महान फिल्मकार ऑरसन वेल्ज़ के जन्मदिन पर सुदीप सोहनी का लेख) सिनेमा के गुजरे सौ सालों में तमाम लेखक, निर्देशक, अभिनेता, निर्माता अपनी ठसक और क़ाबिलियत से लगभग रोज़ ही नया रचते रहे हैं। दर्शक के पास हमेशा से कई विकल्प ...

भारतीय जीवन के अवकाश का सिनेमा है रे का सिनेमा

27 May 2016

(सत्यजित रे के जन्मदिन (2 मई) और पुण्यतिथि (23 अप्रैल) के बीच में उन्हें याद कर रहें सुदीप सोहनी) जब किसी देश के सिनेमा की बात होती है तो उस देश के नाम के साथ जो चीज़ सबसे पहले ज़ेहन में ...

सासिक सोशल मीडिया

  • facebook
  • Twitter
  • LinkedIn
  • Google Plus
  • Youtube

न्यूज़लेटर के लिए रजिस्टर कीजिए

सहयोगकर्ता: Nikesh