प्रज्ञा

साहित्यकार, समीक्षक, और शिक्षक

 

सत्ता की विद्रूपताओं के विरुद्ध विजय तेंदुलकर के नाटक

16 April 2017

‘‘ मुझे याद है कि छह या सात बरस की उम्र में मैं कागज और कलम लेकर कहानियां लिखा करता था जोकि मेरे स्कूल के काम का हिस्सा नहीं होती थीं। मैं अक्सर  ज़िंदगी की परिस्थितियों की ऐसी फैंटेसी में ...

रंग संसार: स्वयं प्रकाश के नाटक

05 February 2017

‘‘ कहानीकार के रूप में प्रसिद्धि पाने से बहुत पहले मैंने नाटक और एकांकी लिखना शुरू कर दिया था। लिखता ही नहीं, खेलता भी था। यानि अभिनय, गायन, मंच-सज्जा, मेकअप ,प्रचार आदि सब। कहानी, उपन्यास, निबंध, और नाटक एक ही ...

सासिक सोशल मीडिया

  • facebook
  • Twitter
  • LinkedIn
  • Google Plus
  • Youtube

न्यूज़लेटर के लिए रजिस्टर कीजिए

सहयोगकर्ता: Nikesh